Sonwalkar

अन्य 2

मृत्यु के द्वार

क्यों बार-बार चाहता है मनकि मर जाऊँमर कर  देखु,मेरे बाद क्या करती है प्रेयसी ?क्या करते है सहधर्मी?क्या करता है समाज?क्या करते है यार दोस्त?प्रियतमा आठों पहर रोती है(फिर भी …

मृत्यु के द्वार अधिक पढ़ें »

तुम्हारे स्मरण

तुम्हारे स्मरण मात्र सेकैसे सहज होते जाते हैसब कामजैसे तुलसी के लिएहर क्षण उपस्थित रहते है श्री रामहजारों उलझनों के बीच भीनिकल आती है । कोई राहघने अँधियारे में भीबरस पड़ता …

तुम्हारे स्मरण अधिक पढ़ें »

व्यसन

अहम्परोपजीवी है ।प्रशंसा की खाद मिलती हैतभी जीवित रहता हैफिर यह बनने लगती हैएक आदतएक व्यसन ।ये खुराक न मिलेतो मुरझाने लगता हैव्यक्तित्व का पोैधाऔर हम दोष देने लगते हैकभी आबो …

व्यसन अधिक पढ़ें »

जनावतार कृष्ण

जनावतारतुम्हारी लीलासचमुच अपरम्पार हैकारागार में जन्मेऔर मतपेटी कोसुदर्षन चक्र की तरह प्रयोग करआतताईयो कीअत्याचारी गर्दन उडा दीहम तो समझ बैठै थेकि तुम एकदम पाषाण होन तुममे करुणा है, न क्रोधऔर …

जनावतार कृष्ण अधिक पढ़ें »

कस्बे की कृतज्ञता

देखते देखतेसात साल बीत गये जावना मेंमालवा के एक कस्बे मेंवक्त नेउम्र के कीमती सात साल छीन लिएलेकिन दे गया बदले मेंतुजुर्बा एहसासों की बेषकीमती दौलतकैसे के वरदान मिलेपिछले दिनोमाॅ …

कस्बे की कृतज्ञता अधिक पढ़ें »