Sonwalkar

अन्य 2

विडंम्बना

तूने हीरे दियेवरदान मेंऔर मैं उन्हेकंकड़ समझकरफेंकता रहा ।उन्होंने क्रान्ति की मशालसौंपी थी हमेंयहाँ का बुद्धिजीवीउससेप्रचार का चूल्हा जलाकरप्रतिष्ठा की रोटीसेंकता रहा ।

कसौटी

जिसे तुम लिख नहीं पाएअगर वही कविताकिसी और से लिख जाएतो सार्थकता का आनन्दफूट पड़ना चाहिएतुम्हारे अन्तरतम सेझरने की तरह।आनन्द की जगहयदि तुम होते हो कुंठिततो मानना चाहिएकि तुम्हारे भीतर‘कवि‘ नहींएक …

कसौटी अधिक पढ़ें »

आसक्ति

अगले क्षण क्या होगा ?हम जो आज बैठे है चेन सेमौज मस्ती में बेखबरअपना हश्र क्या होगा ?कोई नही जानता ।अनागत भविष्य कीऐसी अनिश्चित्ता कायह रहस्य हीजीवन से बाँधे है हमें …

आसक्ति अधिक पढ़ें »

संभावना

व्यवस्था को बदले बगैरनही मिटेगा दुख व्यक्ति काक्रांति के बिनानही मिटेगा राजशोषण की शक्ति का ।मगर कौन सा होगा क्रांन्ति का माध्यम ?बँदूक या बम ?बारुद में धुॅऐ से तोऔर …

संभावना अधिक पढ़ें »

शाष्वत सत्य

कोई नही जानताकि अगले क्षणक्या घटित होगा ?हजार-हजार आकडो से खेलने वालीनियति का गणित क्या होगा ?बहुत मुमकिन हैकि तुम जो अभी हॅस बोल रहे होमित्रो मेंकल ही लदे हुए …

शाष्वत सत्य अधिक पढ़ें »